image image image

पैथोलोजी

पादप रोगविज्ञान (पैथोलोजी)

  1. मक्का की प्रमुख बिमारिया जैसे कि पोस्ट फलावरिंग स्टॅाक रॅाट, पोलीसोरा रस्ट और टर्सीकम लीफ ब्लाइट के लिए प्रतिरोधक स्रोतो की पहचान करना ।
  2. संग्रहित मक्का भंण्डारण अनाज मे माइकोटोक्सिन के एकीकृत प्रबंधन और पोस्ट फलावरिंग स्टॅाक रॅाट के लिए एकीकृत प्रबंधन कार्यक्रम का विकास करना और उनकी पहचान करना ।
  3. पोस्ट फलावरिंग स्टॅाक रॅाट पोलीसोरा रस्ट और टर्सीकम लीफ ब्लाइट बिमारियो के लिए प्रतिरोध स्त्रोतों की पहचान और प्रजनन कार्यक्रम के तहत इन इनब्रड लाइनो का विकास करना ।

उपलब्धियॅ:

  • विभिन्न अनुवांशिक पृष्टभूमि से पोस्ट फलावरिंग स्टॅाक रॅाट के आठ प्रतिरोधी लाइनो की पहचान और विकास किया गया । इन प्रतिरोधी लाइनो का विकास, इस बिमारी के लिए पहचान किये गये चार हाट स्पाट (जहाँ यह बिमारी बहुतायात मे आती है ) उन स्थान हैदराबाद, दिल्ली, उदयपुर और लुधियाना मे मूल्यांकन द्वारा किया गया । पीफएसआर के लिए प्रतिरोधी दो इनब्रड लाइन जो कि राष्ट्रीय पादप अनुवांशिक संसाधन ब्यूरो के साथ पंजिकृत है और बाकी की लाइनो का विकास जारी है ।
    • डीएमआर PFSR-1(IC0590094/INGR11041)
    • डीएमआर PFSR-9(IC0590095/INGR11042)
  • एम. फेसियोलिना और एफ. वर्टिसिलोइेडिस पोस्ट फलावरिंग स्टाक राट की रोग जनित फफुंद पर रोगजनक परिवर्तनशीलता का अध्ययन नियंत्रित हालत (पोली हाउस) मे इनब्रड लाइनो के एक सेट पर किया गया था । उदयपुर (कविता और मन्नार) इलाके के फ्यूजेरियम आइसोलेटस, बाकी 10 परिक्षण किये गये आइसोलेटस की तुलना में अपेक्षाकृत अधिक उग्र थे ।
  • भारत के विभिन्न कृषि जलवायु के अलग- अलग स्थान से एम. फेस्यिोलिना के आइसोलेट्स एकत्रित करके नियंत्रित हालात मे परिक्षण किये गये। हैदराबाद आइसोलेट्स बाकी सात आइसोलेट्स से अधिक विषमय एंव उग्र पाया गया ।
  • मक्का के दाने से आइसोलेट्स किया हुआ बायोकन्ट्रोल एजेन्ट टाइकोडरमा हरजियानम का मूल्यांकन मक्का भंण्डारण के लिये किया गया। पोटेशियम कार्बोनेट @ 4 ग्रा. कि.ग्रा. दाना के हिसाब से किया। टाइकोडरमा हरजियानम, एफलाटाकिसिन नियंत्रित करने मे सबसे प्रभावी रहा ।
  • गुणवत्ता मापदंडों जैसे - कुल प्रोटीन में नौ महीने के भंडारण के दौरान वृद्धि हुर्इ है, जबकि 100 दानों का भार, विषिष्ट गुरूत्व, स्टार्च % एवं चीनी में एक घटती प्रवृति का प्रर्दषन किया ।
  • चौदह जीनोटाइप में AFB1 एफलाटाकिसन की मा़त्रा < 2.00ppb पार्इ गर्इ उनमें से कुछ जीनोटाइप JH-31292 (0.0562), MCH-42 (0.046): NMH-920 (0.016): KMH-3670 (0.012): NMH-803 (0.0511) PMH -1 (0.0639) का प्रर्दशन अच्छा रहा ।
  • एचएम4 और HQPM5 ने 6 महिने के भंण्डारण मे एफलाटॅाक्सिन की मात्रा 87.99 और 202.09 ppb दिखा कर अधिक संवेदनशीलता का प्रर्दशन किया है ।
  • लैब सुविधाएं / परिष्कृत यंत्र – उपकरण:

    • एलिसा रीडर
    • एचपीएलसी
    • शीतलक अपकेंद्रित्र
    • वैद्युतकणसंचलन
    • फ़्लूरोमीटर
    • जेल प्रलेखन प्रणाली
    • रिसर्च माइक्रोस्कोप (phase contrast, fluorescence and light)
    • माइक्रोस्कोप (phase contrast, fluorescence and light)

    संस्थागत परियोजनाएं:

    • संग्रहीत मक्का अनाज में माइक्रोबियल उपनिवेशवाद की वजह से नुकसान की फसल प्रबंधन पोस्ट
    • मक्का के प्रमुख रोगों के लिए प्रतिरोध की स्थिर सूत्रों का कहना है की पहचान
    • पोस्ट फूल डंठल के खिलाफ प्रतिरोध के स्रोतों में से मक्का और पहचान में एम. phaseolina और एफ moniliforme (डंठल सड़ांध रोगजनकों) के बीच मेजबान पैथोजन बातचीत का अध्ययन मक्का की Rots

    एक नज़र में

    अनुसंधान

    प्रौद्योगिकी

    सहयोग एवं संबंध

    मक्का पर एआईसीआरपी

    ज्ञान प्रबंधन

    आरएफडी

    मक्का विशेषज्ञ प्रणाली